banner
May 22, 2021
50 Views
0 0

Maut Shayari – Woh Kafan Ka Saamaan Le Aaye

Written by
banner

Vaade Bhi Usne Kya Khoob Nibhaye Hain,
Zakhm Aur Dard Tohfe Mein Bhijwaye Hain,
Iss Se Badkar Wafa Ki Misaal Kya Hogi,
Maut Se Pehle Kafan Ka Saamaan Le Aaye Hain.
वादे भी उसने क्या खूब निभाए हैं,
ज़ख्म और दर्द तोहफे में भिजवाए हैं,
इस से बढ़कर वफ़ा कि मिसाल क्या होगी,
मौत से पहले कफ़न का सामान ले आये हैं।

Meri Kisi Khata Par Naaraj Na Hona,
Apni Pyari Si Muskan Kabhi Na Khona,
Sukoon Milta Hai Dekh Kar Aapki Hansi Ko,
Mujhe Maut Bhi Aa Jaye Toh Bhi Na Rona.
मेरी किसी खता पर नाराज न होना,
अपनी प्यारी से मुस्कान कभी न खोना,
सुकून मिलता है देखकर आपकी हँसी को,
मुझे मौत भी आ जाये तो भी न रोना।

Vaade Toh Hazaron Kiye The Usne Mujhse,
Kaash Ek Vaada Hi Usne Nibhaya Hota,
Maut Ka Kisko Pata Ki Kab Ayegi,
Par Kaash Usne Zinda Jalaya Na Hota.
वादे तो हजारों किये थे उसने मुझसे,
काश एक वादा ही उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने जिंदा जलाया न होता।

Hum Apni Maut Khud Mar Jaayenge Sanam,
Aap Apne Sar Par Kyu iljaam Lete Ho,
Jaalim Hai Duniya Na Jeene Degi AapKo,
Aap Kyu Apni Jubaa Se Mera Naam Lete Ho.
हम अपनी मौत खुद मर जायेंगे सनम,
आप अपने सर पर क्यूँ इलज़ाम लेते हो,
जालिम है दुनिया जीने न देगी आपको,
आप क्यूँ अपने सर पर इलज़ाम लेते हो।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.