banner
May 21, 2021
16 Views
0 0

Maut Shayari – Maut Paas Nahin Aati

Written by
banner

Jeena Chahata Hun Magar Zindagi Raas Nahin Aati,
Marna Chahta Hun Magar Maut Paas Nahin Aati,
Udas Hoon Is Zindagi Se Isaliye Kyoki,
Uski Yaaden Tadpane Se Baaj Nahin Aateen.

जीना चाहता हूँ मगर जिंदगी रास नहीं आती,
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती,
उदास हूँ इस जिंदगी से इसलिए क्योंकि,
उसकी यादें तड़पाने से बाज नहीं आतीं।

Aasmaan Ke Pare Mukam Mil Jaye,
Rab Ko Mera Ye Paigaam Mil Jaye,
Thak Gayi Hai Dhadakane Ab To Chalte Chalte,
Thahare Sanse To Shayad Aaram Mil Jaye.

आसमान के परे मुकाम मिल जाए,
रब को मेरा ये पैगाम मिल जाए,
थक गयी है धड़कनें अब तो चलते चलते,
ठहरे सांसे तो शायद आराम मिल जाए।

Zindagi Zakhmon Se Bhari Hai,
Waqt Ko Marham Banana Seekh Lo,
Harna To Hai Hi Maut Ke Hathon Ek Din,
Filhaal Zindagi Ko Jeena Seekh Lo.

ज़िंदगी ज़ख्मों से भरी है,
वक़्त को मरहम बनाना सीख लो,
हारना तो है ही मौत के हाथों एक दिन,
फिलहाल ज़िंदगी को जीना सीख लो।

Maut Ka Dar, Zindagi Ke Dar Se Hi Aata Hai,
Jo Shakhs Bharpoor Zindagi Jeeta Hai,
Vah Kisi Bhi Waqt
Maut Ko Gale Lagane Ke Liye Taiyar Rahta Hai.

मौत का डर, जिंदगी के डर से ही आता है,
जो शख्स भरपूर जिंदगी जीता है,
वह किसी भी वक्त
मौत को गले लगाने के लिए तैयार रहता है।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.