banner
May 21, 2021
19 Views
0 0

Maut Shayari – Maut Mangte Hain

Written by
banner

Maut Mangte Hain To Zindagi Khfa Ho Jati Hai,
Zehar Late Hain To Wo Bhi Dawa Ho Jata Hai.
Tu Hi Bta Ay Mere Dost Kya Karun.
Jisko Bhi Chahte Hain Wo Bewafa Ho Jata Hai.

मौत मांगते हैं तो ज़िन्दगी खफा हो जाती है,
ज़ेहर लाते हैं तो वो भी दवा हो जाता है,
तू ही बता ए मेरे दोस्त क्या करूँ,
जिसको भी चाहते हैं वो बेवफा हो जाता है।

Kismat Ne Bar-Bar Bachaya Hun Main,
Maut Ke Muh Se Bhi Wapas Laut Aaya Hun Main,
Kyun Ki Ham Par Itni Rahmat Ai Khuda,
Pahle Hi Unki Rahmat Ka Sataya Hun Mein.

किस्मत ने बार-बार बचाया हूँ मैं,
मौत के मुंह से भी वापस लौट आया हूँ मैं,
क्यों की हम पर इतनी रहमत ऐ खुदा,
पहले ही उनकी रहमत का सताया हूँ मैं।

Aaj Usne Apni Alag Duniya Basai Hai,
Meri Zindagi Bhi Maut Se JeetTi Aayi Hai,
Jitna Todna Chahta Hun Zindagi Ke Taar Main,
Utna Hi Khuda Ne Meri Umar Badhai Hai.

आज उसने अपनी अलग दुनिया बसाई है,
मेरी ज़िन्दगी भी मौत से जीतती आयी है,
जितना तोडना चाहता हूँ ज़िन्दगी के तार मैं,
उतना ही खुदा ने मेरी उम्र बड़ाई है।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.