banner
May 21, 2021
23 Views
0 0

Maut Shayari – Maut Ki Neend Sula Diya

Written by
banner

Itni Shiddat Se Chaha Use Ki Khud Ko Bhi Bhula Diya,
Unke Liye Apne Dil Ko Kitni Hi Baar Rula Diya,
Ek Baar Hi Thukraya Unhone,
Aur Humne Khud Ko Maut Ki Neend Sula Diya.

इतनी शिद्दत से चाहा उसे की खुद को भी भुला दिया,
उनके लिए अपने दिल को कितनी ही बार रुला दिया,
एक बार ही ठुकराया उन्होंने,
और हमने खुद को मौत की नींद सुला दिया।

Vaade Bhi Usne Kya Khoob Nibhaye Hain,
Zakham Or Dard Tohfe Mein Bhijwaye Hai,
Is Se Badhkar Wafa Ki Misaal Kya Hogi,
Maut Se Pehle Maut Ka Saman Le Aaye Hai.

वादे भी उसने क्या खूब निभाए हैं,
ज़ख़्म और दर्द तोहफे में भिजवाये है,
इस से बढ़कर वफ़ा की मिसाल क्या होगी,
मौत से पहले मौत का सामान ले आये है।

Kitna Aur Dard Dega Bas Itna Bata De,
Aisa Kar Aye Khuda Meri Hasti Mita De,
Yun Ghut-Ghut Ke Jeene Se Maut Behtar Hai,
Main Kabhi Na Jagun Mujhe Aisi Neend Sula De.

कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे,
ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे,
यूं घुट घुट के जीने से तो मौत बेहतर है,
मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.