banner
May 21, 2021
22 Views
0 0

Maut Shayari – Maut Ka Kisko Pata

Written by
banner

Ik Tum Ho Jise Pyar Bhi Yaad Nahi,
Ik Mein Hun Jise Or Kuch Yaad Nahi,
Zindagi Maut Ke Do Hi To Tarane Hain,
Ik Tume Yaad Nahi Ik Mujhe Yad Nahi.

इक तुम हो जिसे प्यार भी याद नहीं,
इक में हूँ जिसे और कुछ याद नहीं,
ज़िन्दगी मौत के दो ही तो तराने हैं,
इक तुम्हें याद नहीं इक मुझे याद नहीं।

Usne Mujhse Vaade To Hazaron Kiye The,
Kaash Ek Vaada Hi Usne Nibhaya Hota,
Maut Ka Kisko Pata Ki Kab Ayegi,
Par Kaash Usne Zinda Jalaya Na Hota.

उसने मुझसे वादे तो हजारों किये थे ,
काश एक वादा ही उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने जिंदा जलाया न होता।

Mohabat Ki Har Gali Gumnaam Kyu Hai,
Judai Or Maut Ishq Ka Anjaam Kyu Hai,
Log Dete Hain Naam Ise Paakeezgi Ka,
To Ye Mohabbat Itni Badnaam Kyu Hai.

मोहबत की हर गली गुमनाम क्यों है,
जुदाई और मौत इश्क का अंजाम क्यों है,
लोग देते हैं नाम इसे पाकीज़गी का,
तो ये मोहब्बत इतनी बदनाम क्यों है।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.