banner
May 22, 2021
19 Views
0 0

Maut Shayari – Maut Bhi Koi Cheej Hai

Written by
banner

Uss Se Bichhde Toh Maloom Hua Maut Bhi Koi Cheej Hai,
Zindagi Woh Thi Jo Uski Mahfil Mein Gujaar Aaye.
उससे बिछड़े तो मालूम हुआ मौत भी कोई चीज़ है,
ज़िन्दगी वो थी जो उसकी महफ़िल में गुज़ार आए।

Barh Jaati Hai Meri Maut Ki Tareekh Khud-Ba-Khud Aage,
Jab Bhi Koi Teri Salamati Ki Khabar Le Aata Hai.
बढ़ जाती है मेरी मौत की तारीख खुद ब खुद आगे,
जब भी कोई तेरी सलामती की खबर ले आता है।

Chale Aao Musafir Aakhiri Saansein Bachi Hain Kuchh,
Tumhari Deed Ho Jaati Toh Khul Jaati Meri Aankhein.
चले आओ मुसाफिर आख़िरी साँसें बची हैं कुछ,
तुम्हारी दीद हो जाती तो खुल जातीं मेरे आँखें।

Ai Maut Thhahar Ja Tu Jara Mujhe Yaar Ka Intezar Hai,
Aayega Woh Jarur Agar Use Mujhse Sachcha Pyar Hai,
ऐ मौत ठहर जा तू जरा मुझे यार का इंतज़ार है,
आएगा वो जरूर अगर उसे मुझसे सच्चा प्यार है।

Azal Ko Dosh Dein, Taqdeer Ko Royein, Mujhe Kosein,
Mere Qatil Ka Charcha Kyun Hai Mere Sogwaaron Mein.
अजल को दोष दें, तकदीर को रोयें, मुझे कोसें,
मेरे कातिल का चर्चा क्यों है मेरे सोगवारों में।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.