banner
May 21, 2021
19 Views
0 0

Maut Shayari – Dua Me Apni Maut Mangi

Written by
banner

Maine Khuda Se Ek Dua Mangi,
Dua Me Apni Maut Mangi,
Khuda Ne Kaha Maut To Tujhe De Dun,
Par Uska Kya
Jisne Har Dua Me Teri Zindagi Mangi.

मैंने खुदा से एक दुआ मांगी,
दुआ में अपनी मौत मांगी,
खुदा ने कहा मौत तो तुझे दे दूँ,
पर उसका क्या जिसने हर दुआ में तेरी जिंदगी मांगी।

Maut Ke Baad Yaad Aa Raha Hai Koi,
Mitti Meri Kabr Se Utha Raha Hai Koi,
Ai Khuda Do Pal Ki Mohlat Aur De De,
Udas Meri Kabr Se Ja Raha Hai Koi.

मौत के बाद याद आ रहा है कोई,
मिटटी मेरी कब्र से उठ रहा है कोई,
ऐ खुदा दो पल की मोहलत और दे दे,
उदास मेरी कबर से जा रहा है कोई।

Ai Maut, Main Tujhe Gale Lagana Chahta Hun,
Kitni Wafa Hai Tujh Mein Ye Aazmana Chahta Hun,
Rulaya Hai Bahut Duniya Mein Logo Ne Mujhe,
Mile Jo Tera Saath To Main Logo Ko Rulana Chahta Hun.

ऐ मौत, मैं तुझे गले लगाना चाहता हूँ,
कितनी वफ़ा है तुझ में यह आज़माना चाहता हूँ,
रुलाया है बहुत दुनिया में लोगो ने मुझे,
मिले जो तेरा साथ तो मैं लोगो को रुलाना चाहता हूँ।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.