banner
May 22, 2021
18 Views
0 0

Maut Shayari – Do Ghaz Zamin Sahi

Written by
banner

Do Ghaz Zamin Sahi Meri Milkiyat Toh Hai,
Ai Maut Tu Ne Mujh Ko Zamindar Kar Diya.
दो गज़ ज़मीन सही मेरी मिल्कियत तो है,
ऐ मौत तूने मुझको ज़मींदार कर दिया।

Ai Maut Tujhe Ek Din Aana Hai Bhaley,
Aa Jati Shab-e-Furqat Mein Toh Ehsaan Hota.
ऐ मौत तुझे एक दिन आना है भले,
आ जाती शबे फुरकत में तो अहसां होता।

Jala Hai Jism Toh Dil Bhi Jal Gaya Hoga,
Kuredte Ho Jo Ab Raakh Justjoo Kya Hai.
जला है जिस्म तो दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते तो जो अब राख जुस्तजू क्या है।

Kitni Aziyat Hai Iss Ehsaas Mein,
Ke Mujhe Tujhse Mile Bina Hi Mar Jana Hai.
कितनी अज़ीयत है इस एहसास में,
कि मुझे तुझसे मिले बिना ही मर जाना है।

Har Ek Saans Ka Tu Ehtraam Kar Varna,
Wo Jab Chahe, Jahan Chahe, Aakhiri Kar De.
हर एक साँस का तू एहतराम कर वरना,
वो जब भी चाहे, जहाँ चाहे, आखिरी कर दे।

Ai Hijr Waqt Tal Nahi Sakta Hai Maut Ka,
Lekin Ye Dekhna Hai Ke Mitti Kahan Ki Hai.
ऐ हिज्र वक़्त टल नहीं सकता है मौत का,
लेकिन ये देखना है कि मिट्टी कहाँ की है।

Kahani Khatm Ho Toh Kuchh Aise Khatm Ho,
Ke Log Rone Lage Taaliya Bajate Bajate.
कहानी खत्म हो तो कुछ ऐसे खत्म हो,
कि लोग रोने लगे तालियाँ बजाते बजाते।

Article Categories:
Maut Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.