banner
May 21, 2021
20 Views
0 0

Mausam Shayari Weather Poetry – Barish Shayari Collection

Written by
banner

Dil Ki Baatein Kaun Jaane,
Mere Halaat Ko Kaun Jaane,
Bas Barish Ka Mausam Hai,
Par Dil Ki Khwahish Ko Kaun Jaane,
Meri Pyaas Ka Ehsaas Kaun Jaane?
दिल की बातें कौन जाने,
मेरे हालात को कौन जाने,
बस बारिश का मौसम है,
पर दिल की ख्वाहिश कौन जाने,
मेरी प्यास का एहसास कौन जाने?

Khud Bhi Rota Hai,
Mujhe Bhi Rula Deta Hai,
Yeh Barish Ka Mausam,
Uski Yaad Dila Deta Hai.
खुद भी रोता है,
मुझे भी रुला देता है,
ये बारिश का मौसम,
उसकी याद दिला देता है।

Badalon Se Keh Do,
Jara Soch Samjh Kar Barse,
Agar Mujhe Unki Yaad Aa Gayi,
To Mukabla Barabari Ka Hoga.
बादलों से कह दो,
जरा सोच समझ के बरसे,
अगर हमें उसकी याद आ गई,
तो मुकाबला बराबरी का होगा।

Ye Baarishon Ke Mausam,
Bas Tum Hi Se Hain Wabasta,
Ke Mohabbaton Mein Baarish
Badi Lazmi Si Shay Hai,
Chaahe Aasman Se Barse
Chaahe Chashm-E-Nam Se.
ये बारिशों के मौसम,
बस तुम ही से हैं वाबस्ता,
कि मोहब्बतों में बारिश
बड़ी लाजिम सी शय है,
चाहे आसमां से बरसे…
चाहे चश्म-ए-नम से।

Kahin Fisal Na Jao
Jara Sambhal Ke Rehna,
Mausam Barish Ka Bhi Hai,
Aur Mohabbat Ka Bhi.
कहीं फिसल ना जाओ
ज़रा संभल के रहना,
मौसम बारिश का भी है
और मुहब्बत का भी।

Tumhare Khayalo Mein Chalte Chalte
Kahin Fisal Na Jayun Main,
Apni Yaadon Ko Rok,
Mere Shahar Mein Barish Ka Mausam Hai.
तुम्हारे खयालो में चलते चलते
कही फिसल ना जाऊ मैं,
अपनी यादों को रोक,
मेरे शहर में बारिश का मौसम है।

Article Categories:
Mausam Shayari Weather Poetry
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.