banner
May 21, 2021
46 Views
0 0

Maa Shayari – Tifin Rakhti Hai Meri Maa

Written by
banner

Kitaabon Se Nikal Kar Titaliyaan Gazalen Sunati Hain,
Tifin Rakhti Hai Meri Maa To Basta Muskuraata Hai.

किताबों से निकल कर तितलियाँ ग़ज़लें सुनाती हैं,
टिफ़िन रखती है मेरी माँ तो बस्ता मुस्कुराता है।

Kadam Jab Choomle Manzil To Jazba Muskurata Hai,
Dua Lekar Chalo Maa Ki To Rasta Muskurata Hai.

कदम जब चूमले मंज़िल तो जज़्बा मुस्कुराता है,
दुआ लेकर चलो माँ की तो रस्ता मुस्कुराता है।

Ek Muddat Se Meri Maa Nahin Soyi…
Maine Ik Baar Kaha Tha Mujhe Dar Lagta Hai.

एक मुद्दत से मेरी माँ नहीं सोई…
मैंने इक बार कहा था मुझे डर लगता है।

Shayad Yunhi Simat Saken Ghar Ki Zarooratein,
‘Tanaveer’ Maa Ke Haath Mein Apni Kamai De.

शायद यूँही सिमट सकें घर की ज़रूरतें,
‘तनवीर’ माँ के हाथ में अपनी कमाई दे।

Dua Ko Haath Uthate Huye Larazta Hoon Aarif,
Kabhi Dua Nahin Maangi Thi Maa Ke Hote Hue.

दुआ को हाथ उठाते हुए लरज़ता हूँ आरिफ़,
कभी दुआ नहीं माँगी थी माँ के होते हुए।

Isaliye Chal Na Saka Koi Bhi Khanjar Mujh Par,
Meri Shah-Rag Pe Meri Maa Ki Dua Rakh Thi.

इसलिए चल न सका कोई भी ख़ंजर मुझ पर,
मेरी शह-रग पे मेरी माँ की दुआ रखी थी।

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.