banner
May 21, 2021
15 Views
0 0

Maa Shayari – Muskurati Huyi Maa

Written by
banner

Jiske Hone Se Main Khud Ko Mukkammal Maanta Hoon,
Mere Rab Ke Baad Main Bas Apni Maa Ko Janta Hoon.

जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,
मेरे रब के बाद मैं बस अपनी माँ को जानता हूँ।

Khoobsurti Ki Intha Bepanah Dekhi,
Jab Maine Muskurati Huyi Maa Dekhi.

खूबसूरती की इंतहा बेपनाह देखी,
जब मैंने मुस्कुराती हुई माँ देखी।

Dil Todna Kabhi Nahin Aaya Mujhe,
Pyar Karna Jo Seekha Hai Maa Se.

दिल तोड़ना कभी नहीं आया मुझे,
प्यार करना जो सीखा है माँ से।

Jannat Ka Har Lamha, Deedaar Kiya Tha,
God Me Uthakar Jab Maa Ne Pyar Kiya Tha.

जन्नत का हर लम्हा, दीदार किया था,
गोद मे उठाकर जब माँ ने प्यार किया था।

Kaun Si Hai Wo Cheez Jo Yahan Nahin Milti,
Sab Kuchh Mil Jata Hai Par Maa Nahi Milati.

कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती,
सब कुछ मिल जाता है पर माँ नहीं मिलती।

Teri Dibbe Ki Wo Do Rotiya Kahin Bikti Nahin,
Maa ! Menhge Hotlon Mein Aaj Bhi Bhookh MitTi Nahin.

तेरी डिब्बे की वो दो रोटिया कही बिकती नहीं
माँ मेंहगे होटलों में आज भी भूख मिटती नहीं

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.