banner
May 21, 2021
19 Views
0 0

Maa Shayari – Maa Ki Har Dua Kabool Hai

Written by
banner

सच्चे रिश्तों की ये गहराइयाँ तो देखिये,
चोट लगती है हमें और चिल्लाती है माँ,
हम खुशियों में माँ को भले ही भूल जायें,
जब मुसीबत आ जाए तो याद आती है माँ।
Sachche Rishto Ki Ye Gehraiyan To Dekhiye,
Chot Lagti Hai Hamein Aur Chillati Hai Maa,
Hum Khushiyon Mein Maa Ko Bhale Bhi Bhool Jayein,
Jab Museebat Aa Jaye To Yaad Aati Hai Maa.

सबकुछ मिल जाता है दुनिया में मगर,
याद रखना की बस माँ-बाप नहीं मिलते,
मुरझा कर जो गिर गए एक बार डाली से,
ये ऐसे फूल हैं जो फिर नहीं खिलते।
Sab Kuchh Mil Jata Hai Duniya Mein Magar,
Yaad Rakhna Ki Bas Maa-Baap Nahi Milte,
Murjha Kar Jo Gir Jaaye Ek Baar Dali Se,
Yeh Aise Phool Hain Jo Phir Nahi Khilte.

माँ तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है,
माँ की हर दुआ कबूल है,
माँ को नाराज करना इंसान तेरी भूल है,
माँ के कदमों की मिट्टी जन्नत की धूल है।
Maa To Jannat Ka Phool Hai,
Pyaar Karna Uska Usool Hai,
Duniya Ki Mohabbat Fijool Hai,
Maa Ki Har Dua Kabool Hai,
Maa Ko Naraaj Karna Insaan Teri Bhul Hai.
Maa Ke Kadmo Ki Mitti Jannat Ki Dhool Hai.

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.