banner
May 21, 2021
19 Views
0 0

Maa Shayari – Maa Ki Aagosh Mein

Written by
banner

Pahado Jaise Sadme Jhelti Hai Umr Bhar Lekin,
Ik Aulad Ki Takleef Se Maa Toot Jati Hai.

पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।

Kal Maa Ki God Mein, Aaj Maut Ki Aagosh Mein,
Ham Ko Duniya Mein Ye Do Waqt Bade Suhane Se Mile.

कल माँ की गोद में, आज मौत की आग़ोश में,
हम को दुनिया में ये दो वक़्त बड़े सुहाने से मिले।

Aansu Nikle Pardes Mein Bheega Maa Ka Pyar,
Dukh Ne Dukh Se Baat Ki Bin Chitthi Bin Taar.

आँसू निकले परदेस में भीगा माँ का प्यार,
दुख ने दुख से बात की बिन चिट्ठी बिन तार।

Bhool Jaata Hoon Pareshaniyan Zindagi Ki Saari,
Maa Apni God Mein Jab Mera Sar Rakh Leti Hai.

भूल जाता हूँ परेशानियां ज़िंदगी की सारी,
माँ अपनी गोद में जब मेरा सर रख लेती है।

Hai Gareeb Meri Maa Phir Bhi Mera Khyal Rakhti Hai,
Mere Liye Roti Aur Apne Liye Pateele Ki Khurchan Rakhti Hai.

है गरीब मेरी माँ फिर भी मेरा ख्याल रखती है,
मेरे लिए रोटी और अपने लिए पतीले की खुरचन रखती है।

Baalaen Aakar Bhi Meri Chaukhat Se Laut Jaati Hain,
Meri Maa Ki Duayen Bhi Kitna Asar Rakhti Hain.

बालाएं आकर भी मेरी चौखट से लौट जाती हैं,
मेरी माँ की दुआएं भी कितना असर रखती हैं।

Wo Ujla Ho Ke Maila Ho Ya Manhga Ho Ke Sasta Ho,
Ye Maa Ka Sar Hai Is Pe Har Dupatta Muskurata Hai.

वो उजला हो के मैला हो या मँहगा हो के सस्ता हो,
ये माँ का सर है इस पे हर दुपट्टा मुस्कुराता है।

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.