banner
May 21, 2021
15 Views
0 0

Maa Shayari – Maa Kaise So Sakegi

Written by
banner

Woh Toh Likha Ke Laayi Hai Kismat Mein Jaagna,
Maa Kaise So Sakegi Ki Beta Safar Mein Hai.
वो लिखा के लायी है किस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है।

Jara Si Baat Hai Lekin Hawaa Ko Kaun Samjhaye,
Ki Meri Maa Diye Se Mere Liye Kajal Banati Hai.
जरा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,
कि मेरी माँ दिए से मेरे लिए काजल बनाती है।

Zakhm Jab Bachche Ko Lagta Hai Toh Maa Roti Hai,
Aisi Nisbat Kisi Aur Rishte Mein Kahan Hoti Hai.
ज़ख्म जब बच्चे को लगता है तो माँ रोती है,
ऐसी निस्बत किसी और रिश्ते में कहाँ होती है।

Maa Pehle Aansu Aate The To Tum Yaad Aati Thi,
Aaj Tum Yaad Aati Ho Aur Aansu Nikal Aate Hai.
माँ पहले आँसू आते थे तो तुम याद आती थी,
आज तुम याद आती हो और आँसू निकल आते है।

School Ka Woh Basta Mujhe Fir Se Thamaa De Maa,
Zindagi Ka Safar Mujhe Badaa Mushkil Lagta Hai.
स्कूल का वो बस्ता मुझे फिर से थमा दे माँ,
जिंदगी का सफ़र मुझे बड़ा मुश्किल लगता है।

Maa Tere Doodh Ka Haq Mujhse Adaa Kya Hoga,
Tu Naaraj Hai Toh Khush Mujhse Khuda Kya Hoga.
माँ तेरे दूध का हक मुझसे अदा क्या होगा,
तू नाराज है तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा।

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.