banner
May 21, 2021
43 Views
0 0

Maa Shayari – Maa Anparh Hai Meri

Written by
banner

Gin Leti Hai Din Bagair Mere Gujare Hain Kitne,
Bhala Kaise Kah Doon Ki Maa Anparh Hai Meri.
गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने,
भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

Pahaado Jaise Sadme Jhelti Hai Umr Bhar Lekin,
Bas Ik Aulad Ki Takleef Se Maa Toot Jati Hai.
पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
बस इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।

Aye Andhere Dekh Tera Munh Kala Ho Gaya,
Maa Ne Aankhein Khol Di Ghar Mein Ujala Ho Gaya.
ऐ अँधेरे देख मुँह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दी, घर में उजाला हो गया।

Kuchh Iss Tarah Mere Gunaaho Ko Dho Deti Hai,
Maa Bahut Gusse Mein Hoti Hai Toh Ro Deti Hai.
कुछ इस तरह वो मेरे गुनाहों को धो देती है,
माँ बहुत गुस्से मे होती है तो रो देती है।

Jab Jab Kagaj Par Likha Maine Maa Ka Naam,
Kalam Adab Se Bol Uthi Ho Gaye Charo Dhaam.
जब-जब कागज पर लिखा मैने माँ का नाम,
कलम अदब से बोल उठी हो गये चारो धाम।

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.