banner
May 21, 2021
25 Views
0 0

Maa Shayari – Lafz-E-Maa

Written by
banner

Mainne Kal Shab Chaahaton Ki Sab Kitaben Phaad Di,
Sirf Ik Kaagaz Pe Likha Lafz—E—Maa Rahane Diya

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़—ए—माँ रहने दिया।

Maa ! Ke Aage Yoon Hi Kabhi Khul Kar Nahin Rona,
Jahan Buniyaad Ho, Itni Nami Achchhi Nahin Hoti.

माँ ! के आगे यूँ ही कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो, इतनी नमी अच्छी नहीं होती।

Mujhe Kadhe Huye Takiye Ki Kya Zaroorat Hai,
Kisi Ka Haath Abhi Mere Sar Ke Neeche Hai.
“Meri Maa”

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है।
“मेरी माँ”

Bujurgon Ka Mere Dil Se Abhi Tak Dar Nahin Jaata Dosto,
Ki Jab Tak Jaagti Rahti Hai Maa Main Ghar Nahin Jaata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता दोस्तो,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता।

Mere Chehare Pe Mamta Ki Faravani Chamakti Hai,
Main Boodha Ho Raha Hoon Phir Bh Peshaani Chamakt Hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है।

Aankhon Se Mangne Lage Paani Vazoo Ka Ham,
Kaagaz Pe Jab Bhi Dekh Liya Maa Likha Hua.

आँखों से माँगने लगे पानी वज़ू का हम,
काग़ज़ पे जब भी देख लिया माँ लिखा हुआ।

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.