banner
May 21, 2021
43 Views
0 0

Maa Shayari – Jannat Nahi Maa Dekhi Hai

Written by
banner

Chalti Firti Aankhon Se Azaan Dehi Hai,
Maine Jannat Toh Nahi Dekhi Hai Maa Dekhi Hai.
चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है,
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है।

Tere Kadmon Mein Yeh Saara Jahan Hoga Ek Din,
Maa Ke Hothhon Pe Tabassum Ko Sajaane Wale.
तेरे क़दमों में ये सारा जहां होगा एक दिन,
माँ के होठों पे तबस्सुम को सजाने वाले।

Sar Par Jo Haath Fere Toh Himmat Mil Jaye,
Maa Ek Baar Muskura De Toh Jannat Mil Jaye.
सर पर जो हाथ फेरे तो हिम्मत मिल जाये,
माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाये।

Soona Soona Sa Mujhe Yeh Ghar Lagta hai,
Maa Jab Nahi Hoti Toh Bahut Darr Lagta Hai.
सूना-सूना सा मुझे ये घर लगता है,
माँ जब नहीं होती तो बहुत डर लगता है।

Maine Kal Shab Chahton Ki Sab Kitaabein Faad Di,
Sirf Ek Kagaz Par Lafze Maa Rahne Diya.
मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दी,
सिर्फ एक कागज़ पर लफ्जे माँ रहने दिया।

Bhookh Toh Ek Roti Se Bhi Mit Jaati Maa,
Agar Thali Ki Wo Roti Tere Haath Ki Hoti.
भूख तो एक रोटी से भी मिट जाती माँ,
अगर थाली की वो रोटी तेरे हाथ की होती।

Article Categories:
Maa Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.