banner
May 20, 2021
13 Views
0 0

Life Zindagi Shayari – Zindagi Shaam Hai

Written by
banner

Kabhi Khole Toh Kabhi Zulf Ko Bikhraye Hai,
Zindagi Shaam Hai Aur Shaam Dhali Jaye Hai.
कभी खोले तो कभी ज़ुल्फ़ को बिखराए है,
ज़िंदगी शाम है और शाम ढली जाए है।

Pehle Se Un Kadamon Ki Aahat Jaan Lete Hain,
Tujhe Ai Zindagi Hum Dur Se Pehchaan Lete Hain.
पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं,
तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं।

Har Ek Chehre Ho Zakhmo Ka Aayina Na Kaho,
Ye Zidagi Toh Hai Rahmat Ise Sazaa Na Kaho.
हर एक चेहरे को ज़ख़्मों का आईना न कहो,
ये ज़िंदगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो।

Jyada Khwahishein Nahin Ai Zindagi Tujhse,
Bas Agla Kadam Pichhle Se Behatreen Ho.
ज्यादा ख़्वाहिशें नहीं ऐ ज़िंदगी तुझसे,
बस अगला कदम पिछले से बेहतरीन हो।

Dhoop Mein Niklo Ghataon Mein Nahaa Kar Dekho,
Zindagi Kya Hai Kitabon Ko Hataakar Dekho.
धूप में निकलो घटाओं में नहाकर देखो,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटाकर देखो।
(Nida Fazli)

Na Kar Shumaar Ke Har Shay Gini Nahi Jaati,
Ye Zindagi Hai Hisaabon Se Jee Nahi Jaati.
न कर शुमार कि हर शय गिनी नहीं जाती,
ये ज़िंदगी है हिसाबों से जी नहीं जाती।

Article Categories:
Life Zindagi Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.