banner
May 20, 2021
48 Views
0 0

Khwaab Shayari – Khwaabo Mein Pa Kar

Written by
banner

Tujhe Khwaabo Mein Pa Kar Dil Ka Karaar Kho Hi Jata Hai,
Main Jitna Rokoon Khud Ko Tujhse Pyar Ho Hi Jata Hai…

तुझे ख्वाबो में पा कर दिल का करार खो ही जाता है,
मैं जितना रोकूँ खुद को तुझसे प्यार हो ही जाता है…

Aa Bhi Jao Meri Aankhon Ke Roobaroo Ab Tum,
Kitna Khwavon Mein Tujhe Aur Talaasha Jaye.

आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम,
कितना ख्वावों में तुझे और तलाशा जाए।

Ek Halki Si Jhalak Kya Mili Bechain Nazron Ko,
Hazaron Khwaab Dil Ne Dekh Dale Chand Lamhon Mein.

एक हल्की सी झलक क्या मिली बेचैन नज़रों को,
हज़ारों ख़्वाब दिल ने देख डाले चंद लम्हों में।

Abhi Wo Aankh Bhi Soi Nahin Hai,
Abhi Wo Khwaab Bhi Jaaga Hua Hai.

अभी वो आँख भी सोई नहीं है,
अभी वो ख़्वाब भी जागा हुआ है।

Aankhen Khulin To Jaag Uthin Hasraten Tamaam,
Us Ko Bhi Kho Diya Jise Paaya Tha Khwaab Mein.

आँखें खुलीं तो जाग उठीं हसरतें तमाम,
उस को भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब में।

Aankhon Mein Jo Bhar Loge To Kanton Se Chubhenge,
Ye Khwaab To Palkon Pe Sajaane Ke Liye Hain.

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे,
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं।

Khwaab Ka Rishta Haqeeqat Se Na Joda Jaye,
Aaeena Hai Ise Patthar Se Na Toda Jaye.

ख़्वाब का रिश्ता हक़ीक़त से न जोड़ा जाए,
आईना है इसे पत्थर से न तोड़ा जाए।

Article Categories:
Khwaab Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.