banner
May 20, 2021
14 Views
0 0

Khamoshi Shayari – Dil Ki Khamoshi Se

Written by
banner

Uske Bina Ab ChupChup Rehna Achha Lagta Hai,
Khamoshi Se Dard Ko Sehna Achha Lagta Hai,
Jis Hasti Ki Yaad Mein Din Bhar Aansoo Behte Hain,
Saamne Us Ke Kuch Na Kehna Achha Lagta Hai,
Mil Ker Us Se Bichad Na Jaon Darti Rehti Hoon,
Isliye Bas Door Hi Rehna Achha Lagta Hai.

उसके बिना अब चुपचुप रहना अच्छा लगता है,
ख़ामोशी से दर्द को सहना अच्छा लगता है,
जिस हस्ती की याद में दिन भर आंसू बहते हैं,
सामने उस के कुछ न कहना अच्छा लगता है,
मिल कर उस से बिछड़ न जाऊं डरती रहती हूँ,
इसलिए बस दूर ही रहना अच्छा लगता है।

Chahat Ki Justzoo Ab Kho Gayi Hai,
Khamoshiyo Ki Aadat Ho Gayi Hai,
Na Gila Raha Na Sikwa Kisi Se,
Agar Hai To Ek Mohabbat,
Jo In Tanhayion Se Ho Gayi Hai.

चाहत की जुस्तजू अब खो गयी है,
खामोशियों की आदत हो गयी है,
न गिला रहा न शिकवा किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाईओं से हो गयी है।

Dil Ki Khamoshi Se Sansen Ruk Jane Tak,
Yaad Ayega Mujhe Shakhs Wo Mar Jane Tak,
Usne Ulfat Ke Bhi Paimane Bana Rakhe The,
Maine Chaha Tha Use Had Se Guzr Jane Tak.

दिल की ख़ामोशी से सांसें रुक जाने तक,
याद आएगा मुझे शख्स वो मर जाने तक,
उसने उल्फ़त के भी पैमाने बना रखे थे,
मैंने चाहा था उसे हद से गुज़र जाने तक।

Article Categories:
Khamoshi Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.