banner
May 20, 2021
18 Views
0 0

Judai Shayari – Teri Judai

Written by
banner

Jigar Hai Chhalni-Chhalni Aankhen Lahoo-Lahoo Hain,
Teri Judai Ne Mujhe Is Kadar Tabaah Kar Diya.

जिगर है छलनी-छलनी… आँखें लहू-लहू हैं,
#तेरी जुदाई ने मुझे इस कदर तबाह कर दिया।

Angadai Par Angadai Leti Hai Raat Judai Ki,
Tum Kya Samjho Tum Kya Jano Baat Meri Tanhai Ki.

अंगड़ाई पर अंगड़ाई लेती है रात जुदाई की,
तुम क्या समझो तुम क्या जानो बात मेरी तन्हाई की।

Na Mera Dil Itna Bura Tha Na Usmen Koi Burai Thi,
Sab Muqqadar Ka Khel Hai Bas Kismat Mein Judai Thi.

ना मेरा दिल इतना बुरा था न उसमें कोई बुराई थी,
सब मुक़्क़दर का खेल है बस किस्मत में जुदाई थी।

Kalam Mein Jitna Jor Hai Judai Ki Badaulat Hai,
Milne Ke Baad Likhne Wale Likhna Chhod Dete Hain.

कलम में जितना जोर है जुदाई की बदौलत है,
मिलने के बाद लिखने वाले लिखना छोड़ देते है।

Apni Aankhon Se Yoon To Saagar Bhi Piye Hain Maine,
Tujhe Kya Khabar Judai Ke Din Kaise Jiye Hain Maine.

अपनी आँखों से यूँ तो सागर भी पिए हैं मैने,
तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिए हैं मैने।

Dil Karta Hai Zindagi Ko Kisi Qaatil Ke Havale Kar Den,
Judai Mein Yoon Roz Roz Marna Hame Achchha Nahin Lagta.

दिल करता है जिंदगी को किसी क़ातिल के हवाले कर दें,
जुदाई में यूँ रोज़ रोज़ मरना हमे अच्छा नहीं लगता।

Article Categories:
Judai Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.