banner
May 20, 2021
16 Views
0 0

Judai Shayari – Sadiyon Ki Judai

Written by
banner

Jiski Aankhon Mein Kati Thi Sadiyan,
Usne Sadiyon Ki Judai Di Hai.
जिसकी आँखों में कटी थी सदियाँ,
उसने सदियों की जुदाई दी है।

Main Samjha Tha Ke Laut Aate Hain Jaane Wale,
Tu Ne Jakar Toh Judai Meri Kismat Kar Kar Di.
मैं समझा था कि लौट आते हैं जाने वाले,
तू ने जाकर तो जुदाई मेरी क़िस्मत कर दी।

Yeh Hum Hi Jante Hain Judai Ke Morh Par,
Iss Dil Ka Jo Bhi Haal Tujhe Dekh Kar Hua.
यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर,
इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ।

Itna Betaab Na Ho Mujhse Bichhadne Ke Liye,
Tujhe Aankhon Se Nahi Mere Dil Se Juda Hona Hai.
इतना बेताब न हो मुझसे बिछड़ने के लिए,
तुझे आँखों से नहीं मेरे दिल से जुदा होना है।

Ab Ke Kuchh Soch Ke Mujhe Khud Se Juda Karna,
Zindagi Zulf Nahi Jo Phir Se Sanwar Jayegi.
अब के कुछ सोच के मुझे खुद से जुदा करना,
जिंदगी ज़ुल्फ़ नहीं जो फिर संवर जाएगी।

Jab Tak Mile Na The Judai Ka Tha Malaal,
Ab Yeh Malaal Hai Ke Tamanna Nikal Gayi.
जब तक मिले न थे जुदाई का था मलाल,
अब ये मलाल है कि तमन्ना निकल गई।

Article Categories:
Judai Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.