banner
May 20, 2021
16 Views
0 0

Judai Shayari – Juda Hone Ki Chahat

Written by
banner

Humne Pyar Nahi Ishq Nahi Ibaadat Ki Hai,
Rasmon Se Riwajon Se Bagawat Ki Hai,
Manga Tha Hum Ne Jise Apni Duaaon Me,
Usi Ne Mujhse Juda Hone Ki Chahat Ki Hai.
हमने प्यार नहीं इश्क नहीं इबादत की है,
रस्मों से रिवाजों से बगावत की है,
माँगा था हमने जिसे अपनी दुआओं में,
उसी ने मुझसे जुदा होने की चाहत की है।

Unki Tasveer Ko Seene Se Laga Lete Hain,
Iss Tarah Judai Ka Gham Uthha Lete Hain,
Kisi Tarah Jikr Ho Jaye Unka,
Toh Hans Kar Bhigi Palkein Jhuka Lete Hain.
उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते है,
इस तरह जुदाई का गम उठा लेते है,
किसी तरह ज़िक्र हो जाए उनका,
तो हँस कर भीगी पलकें झुका लेते है।

Har Gadi Sochte Hain Bhalayi Teri,
Sun Nahi Sakte Hain Burayi Teri,
Hanste Hanste Ro Padti Hain Aankhein Meri,
Iss Tarah Se Sahte Hain Judai Teri.
हर घड़ी सोचते हैं भलाई तेरी,
सुन नहीं सकते हैं बुराई तेरी,
हँसते हँसते रो पड़ती हैं आँखें मेरी,
इस तरह से सहते हैं जुदाई तेरी।

Article Categories:
Judai Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.