banner
May 20, 2021
14 Views
0 0

Judai Shayari – Ho Judai Ka Sabab Kuchh Bhi

Written by
banner

Har Mulakat Par Waqt Ka Takaza Hua,
Har Yaad Par Dil Ka Dard Taaza Hua,
Suni Thi Sirf Logon Se Judaai Ki Baatein,
Khud Par Beeti To Haqikat Ka Andaza Hua.
हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ,
हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ,
सुनी थी सिर्फ लोगों से जुदाई की बातें,
खुद पर बीती तो हक़ीक़त का अंदाज़ा हुआ।

Ho Judai Ka Sabab Kuchh Bhi Magar,
Use Hum Apni Khata Kahte Hain,
Woh To Saanso Me Basi Hai Mere,
Jane Kyun Log Mujhse Juda Kahte Hain.
हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर,
हम उसे अपनी खता कहते हैं,
वो तो साँसों में बसी है मेरे,
जाने क्यों लोग मुझसे जुदा कहते हैं।

Kash Yeh Zalim Judai Na Hoti,
Ai Khuda Tu Ne Yeh Cheej Banai Na Hoti,
Na Hum Unse Milte Na Pyaar Hota,
Zindgi Jo Apni Thi Woh Parayi Na Hoti.
काश यह जालिम जुदाई न होती,
ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायीं न होती,
न हम उनसे मिलते न प्यार होता,
ज़िन्दगी जो अपनी थी वो परायी न होती।

Article Categories:
Judai Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.