banner
May 17, 2021
24 Views
0 0

Jazbaat Shayari – Wo Farishta Kah Kar Mujhe

Written by
banner

Baat Oonchi Thi Magar Baat Jara Kam Aanki,
Mere Jazbaat Ki Aukaat Zara Kam Aanki,
Wo Farishta Kah Kar Mujhe Jaleel Karta Raha,
Main Insaan Hoon Meri Jaat Zara Kam Aanki.

बात ऊंची थी मगर बात जरा कम आंकी,
मेरे जज्बात की औकात ज़रा कम आंकी,
वो फ़रिश्ता कह कर मुझे जलील करता रहा,
मैं इंसान हूँ मेरी जात ज़रा कम आंकी।

Patthar Ki Duniya Jazbaat Nahi Samajhti,
Dil Mein Kya Hai Wo Baat Nahi Samajhti,
Tanha To Chaand Bhi Sitaaron Ke Bheech Mein Hai,
Par Chaand Ka Dard Wo Raat Nahi Samjhati.

पत्थर की दुनिया जज़्बात नहीं समझती,
दिल में क्या है वो बात नहीं समझती,
तनहा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नहीं समझती।

Jhuki Hui Palkon Se Jinka Deedar Kiya,
Sab Kuchh Bhula Ke Jinka Intzaar Kiya,
Wo Jaan Hi Na Paye Jazbaat Mere,
Jinhen Duniya Se Badhkar Maine Pyar Kiya.

झुकी हुई पलकों से जिनका दीदार किया,
सब कुछ भुला के जिनका इंतज़ार किया,
वो जान ही न पाये जज़्बात मेरे,
जिन्हें दुनिया से बढ़कर मैंने प्यार किया।

Alfaaz Ki Shakl Mein Ehsaas Likha Jata Hai,
Yahan Par Paani Ko Bhi Pyas Likha Jata Hai,
Meri Kalam Bhi Wakif Hai Mere Jazbaat Se ,
Pyar Likhoon… To Tera Naam Likh Jata Hai.

अल्फ़ाज़ की शक्ल में एहसास लिखा जाता है,
यहां पर पानी को भी प्यास लिखा जाता है,
मेरी कलम भी वाकिफ है मेरे जज़्बात से ,
प्यार लिखूं… तो तेरा नाम लिख जाता है।

Kabhi Shahil Banao Kisi Khoobsoorat Dil Ko,
Kasam Mere Jazbaaton Ki,
Tum Khoobsoorat Chehron Ki Talaas Chhod Doge.

कभी शाहिल बनाओ किसी खूबसूरत दिल को,
कसम मेरे जज्बातों की,
तुम खूबसूरत चेहरों की तलास छोड़ दोगे।

Article Categories:
Jazbaat Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.