banner
May 17, 2021
23 Views
0 0

Intezaar Shayari – Unki Marji Ka Intezaar

Written by
banner

Unki Apni Marji Ho,
To Wo Humse Baat Karte Hain,
Aur Humara Pagalpan Dekho Ki
Sara Din Unki Marji Ka Intezaar Karte Hain.

उनकी अपनी मरजी हो,
तो वो हमसे बात करते है,
और हमारा पागलपन देखो क़ि
सारा दिन उनकी मरजी का इंतजार करते है।

Dooriyaan Hi Sahi Par Der To Nahin,
Intezaar Bhala Par Judai To Nahin,
Milna Bichhadna To Kismat Hai Apni,
Aakhir Insan Hain Ham Farishte To Nahin.

दूरियां ही सही पर देरी तो नहीं,
इंतज़ार भला पर जुदाई तो नहीं,
मिलना बिछड़ना तो किस्मत है अपनी,
आखिर इंसान हैं हम फ़रिश्ते तो नहीं।

Kismat Ne Tumse Door Kar Diya,
Akelepan Ne Dil Ko Mazaboor Kar Diya,
Ham Bhi Zindagi Se Munh Mod Lete Magar,
Tumhare Intezaar Ne Jeene Par Mazboor Kar Diya.

किस्मत ने तुमसे दूर कर दिया,
अकेलेपन ने दिल को मज़बूर कर दिया,
हम भी ज़िंदगी से मुँह मोड़ लेते मगर,
तुम्हारे इंतज़ार ने जीने पर मज़बूर कर दिया।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.