banner
May 17, 2021
18 Views
0 0

Intezaar Shayari – Unka Inezaar Kiya

Written by
banner

Jhuki Hui Palkon Se Unka Deedaar Kiya,
Sab Kuchh Bhula Ke Unka Inezaar Kiya
Wo Jaan Hi Na Paye Jajbaat Mere,
Maine Sabse Jyada Jinhen Pyar Kiya.

झुकी हुई पलकों से उनका दीदार किया,
सब कुछ भुला के उनका इंतजार किया
वो जान ही न पाए जज्बात मेरे,
मैंने सबसे ज्यादा जिन्हें प्यार किया।

Kabhi To Hume Bhi Yaad Karoge,
Do Pal Mere Liye Bhi Barbaad Karoge,
Intezaar Rahega Hume Bhi Qayamat Tak,
Hum Bhi To Dekhe Tum
Akhir Kab Tak Hume Pyar Na Karoge.

कभी तो हमे भी याद करोगे,
दो पल मेरे लिए भी बर्बाद करोगे,
इंतज़ार रहेगा हमे भी क़यामत तक
हम भी तो देखे तुम,
आखिर कब तक हमे प्यार न करोगे।

Najron Se Najron Ka Takrav Hota Hai,
Har Mod Par Kisi Ka Intezaar Hota Hai,
Dil Rota Hai Jakhm Hanste Hain,
Isi Ka Naam Hi Pyar Hota Hai.

नजरों से नजरों का टकराव होता है,
हर मोड़ पर किसी का इंतज़ार होता है,
दिल रोता है जख्म हँसते हैं,
इसी का नाम ही प्यार होता है।

Faslon Se Intezaar Badha Karta Hai,
Intezaar Se Pyar Badha Karta Hai,
Sari Zindagi Khuda Se Sajda Karo Tab Ja Ke,
Tumhare Jaisa Yaar Mila Karta Hai.

फासलों से इंतज़ार बढा करता है,
इंतज़ार से प्यार बढ़ा करता है,
सारी ज़िंदगी ख़ुदा से सजदा करो तब जा के,
तुम्हारे जैसा यार मिला करता है।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.