banner
May 17, 2021
19 Views
0 0

Intezaar Shayari – Tera Intezaar Karenge

Written by
banner

Jaisi Hai Teri Khwaish Waise Pyar Karenge,
Har Dhadkan Par Apni Wafa Ka Ikraar Karenge,
Jahan Bhi Jaoge Har Kadam Hume Hi Paoge,
Ishq Ke Har Mod Par Tera Intezaar Karenge.

जैसी है तेरी ख्वाइश वैसे प्यार करेंगे,
हर धड़कन पर अपनी वफ़ा का इक़रार करेंगे,
जहाँ भी जाओगे हर कदम हममे ही पाओगे,
इश्क़ के हर मोड़ पर तेरा इंतज़ार करेंगे।

Wo Hote Agar Maut, To Maut Se Bhi Na Inkaar Hota,
Mar Bhi Jate Agar Mila Unka Pyar Hota,
Qubool Kar Lete Har Saza,
Agar Unki Aankhon Me Hamara Intezaar Hota.

वो होते अगर मौत, तो मौत से भी न इंकार होता,
मर भी जाते अगर मिला उनका प्यार होता,
क़ुबूल कर लेते हर सजा,
अगर उनकी आँखों में हमारा इंतज़ार होता।

Kabhi Jazbaat To Kabhi Yadon Ko Dafan Karte Hain,
Kabhi Aansu To Kabhi Dard Piya Karte Hain.
Mohtaj To Nahi Hum Phir Bhi,
Aap Ke Pyar Ka Intezaar Kiya Karte Hain.

कभी जज़्बात तोह कभी यादवों को दफ़न करते हैं,
कभी आँसू तोह कभी दर्द पिया करते है.
मोहताज तो नहीं हम फिर भी,
आप के प्यार का इंतज़ार किया करते है।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.