banner
May 17, 2021
15 Views
0 0

Intezaar Shayari – Intezar Uska Hai

Written by
banner

Mere Dil Ki Ummidon Ka Hausla To Dekho,
Intezaar Uska Hai Jise Mera Ehsaas Tak Nahi.
मेरे दिल की उम्मीदों का हौसला तो देखो,
इंतज़ार उसका है जिसे मेरा एहसास तक नहीं।

Aadhi Se Jyada Shabe-Gham Kaat Chuka Hun,
Ab Bhi Agar Aa Jao To Yeh Raat Badi Hai.
आधी से ज्यादा शबे-ग़म काट चुका हूँ,
अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है।

Qasid Payame-Shauk Ko Dena Bahut Na Tul,
Kehna Faqat Yeh Unse Ke Aankhein Taras Gayin.
कासिद पयामे-शौक को देना बहुत न तूल,
कहना फ़क़त ये उनसे कि आँखें तरस गयीं।

Bikhra Pada Hai Tere Hi Ghar Mein Tera Wajood,
Bekaar Mehfilon Mein Tujhe Dhoondhta Hun Main.
बिखरा पड़ा है तेरे ही घर में तेरा वजूद,
बेकार महफ़िलों में तुझे ढूँढता हूँ मैं।
(Qateel Shifai)

Ek Aarzoo Hai Agar Poori Parvardigar Kare,
Main Der Se Jaaun Aur Woh Mera Intezaar Kare.
एक आरज़ू है अगर पूरी परवरदिगार करे,
मैं देर से जाऊं और वो मेरा इंतज़ार करे।

Nigahon Mein Koi Bhi Doosra Chehra Nahi Aaya,
Bharosa Hi Kuchh Aisa Tha Tumhare Laut Aane Ka.
निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया,
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.