banner
May 17, 2021
17 Views
0 0

Intezaar Shayari – Intezaar To Hai

Written by
banner

Jeene Ki Khwaish Me Har Roz Marte Hain,
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hain,
Jutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada,
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hain.

जीने की ख्वाइश में हर रोज़ मरते हैं,
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं,
जूठा ही सही मेरे यार का वादा,
हम सच मानकर ऐतबार करते हैं।

Door Hi Sahi Magar Tujhse Pyar To Hai,
Tere Ienkaar Ke Baad Bhi Intezaar To Hai.
Agar Aasaan Hota Bhoolna, To Bhool Jate,
Par Aaj Bhi Yeh Dil Beqaraar To Hai.

दूर ही सही मगर तुझसे प्यार तो है,
तेरे इन्कार के बाद भी इंतज़ार तो है।
अगर आसान होता भूलना, तो भूल जाते,
पर आज भी ये दिल बेक़रार तो है।

Meri Nazron Mein Jo Khumaar Hai Uska Hi Hai,
Mere Tassavur Mein Jo Hisaar Hai Uska Hi Hai,
Vo Mere Paas Aaye, Saath Rahe Na Rahe,
Mujhe To Bas Ab Intazaar Uska Hi Hai.

मेरी नज़रों में जो खुमार है उसका ही है,
मेरे तस्सवुर में जो हिसार है उसका ही है,
वो मेरे पास आये, साथ रहे न रहे,
मुझे तो बस अब इंतज़ार उसका ही है।

Tum Paas Ho To Tujhpe Pyar Aata Hai,
Tum Door Ho To Tera Intazaar Satata Hai,
Kya Kahen Is Dil Ki Haalat,
Tujhse Door Hokar Dil Beqarar Ho Jaata Hai.

तुम पास हो तो तुझपे प्यार आता है,
तुम दूर हो तो तेरा इंतज़ार सताता है,
क्या कहें इस दिल की हालत,
तुझसे दूर होकर दिल बेक़रार हो जाता है।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.