banner
May 17, 2021
58 Views
0 0

Intezaar Shayari – Ek Raat Wo Gaya

Written by
banner

Ek Raat Wo Gaya Tha Jahan Baat Rok Ke,
Ab Tak Ruka Hua Hoon Wahin Raat Rok Ke.

एक रात वो गया था जहाँ बात रोक के,
अब तक रुका हुआ हूँ वहीं रात रोक के।

Poori Raat Mere Ghar Ka Ek Darwaza Khula Raha,
Main Raah Dekhta Raha Woh Rasta Badal Gaya.

पूरी रात मेरे घर का एक दरवाजा खुला रहा,
मैं राह देखता रहा वो रास्ता बदल गया।

Muddaton Se Uske Intezaar Mein Hun Kahi Padh Liya Tha,
Ki Sachchi Mohabbat Lautkar Aati Hai…

मुद्दतों से उसके इंतजार में हुँ कही पढ़ लिया था,
कि सच्ची मोहब्बत लौटकर आती है…।

Fir Muqaddar Ki Lakeeron Mein Likh Diya Intezar,
Fir Wohi Raat Ka Aalam Aur Main Tanha Tanha.

फिर मुक़द्दर की लकीरों में लिख दिया इंतज़ार,
फिर वही रात का आलम और मैं तन्हा-तन्हा।

Us Ishq Ki Aag Mere Dil Ko Aaj Bhi Jalaya Karti Hai,
Juda Huye To Kya Hua Ye Aankh Aaj Bhi Unka Intezaar Karti Hai.

उस इश्क़ की आग मेरे दिल को आज भी जलाया करती है,
जुदा हुए तो क्या हुआ ये आँख आज भी उनका इंतज़ार करती है।

Roj Tera Intezaar Hota Hai Roj Ye Dil Beqarar Hota Hai
Kash Ke Tum Samjh Sakte Ke Chup Rahne Walon Ko Bhi Pyar Hota Hai

रोज तेरा इंतजार होता है रोज ये दिल बेक़रार होता है
काश के तुम समझ सकते के चुप रहने वालों को भी प्यार होता है

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.