banner
May 17, 2021
47 Views
0 0

Intezaar Shayari – Ek Pal Ka Intezaar

Written by
banner

Kyu Kisi Se Itna Pyar Ho Jata Hai,
Ek Pal Ka Intezaar Bhi Dushwar Ho Jata Hai,
Lagne Lagte Hain Apne Bhi Paraye,
Aur Ek Ajnabi Par Aitbaar Ho Jaata Hai.

क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है,
एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है,
लगने लगते हैं अपने भी पराये,
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है।

Dil Ko Tha Aapka Besabri Se Intezaar,
Palke Bhi Thi Aapki Ek Jhalak Ko Bekraar,
Aapke Aane Se Aayi Hai Kuchh Aisi Bahaar,
Ki Dil Bas Mange Aapke Liye
Khushiyan Beshumaar.

दिल को था आपका बेसबरी से इंतजार,
पलके भी थी आपकी एक झलक को बेकरार,
आपके आने से आयी है कुछ ऐसी बहार,
कि दिल बस मांगे आपके लिये खुशियाँ बेशुमार।

Sukhe Patte Se Pyar Kar Lenge,
Tumhara Aitbaar Kar Lenge,
Tum Ye To Kaho Ki Hum Tumhare Hain,
Hum Zindagi Bhar Intezaar Kar Lenge.

सूखे पत्ते से प्यार कर लेंगे,
तुम्हारा ऐतबार कर लेंगे,
तुम ये तो कहो की हम तुम्हारे हैं,
हम ज़िन्दगी भर इंतज़ार कर लेंगे।

Yun Palke Bichha Kar Tera Intezaar Karte Hain,
Yah Wo Gunah Hai Jo Ham Baar Baar Karte Hai,
Jalakar Hasrat Ki Raah Par Chiraag,
Ham Subah Aur Sham Tere Milne Ka Intezaar Karte Hai.

यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है,
यह वो गुनाह है जो हम बार बार करते है,
जलाकर हसरत की राह पर चिराग,
हम सुबह और शाम तेरे मिलने का इंतज़ार करते है।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.