banner
May 17, 2021
22 Views
0 0

Intezaar Shayari – Ankhon Ko Intezaar

Written by
banner

Aankhon Ko Intezaar Ki Bhatti Pe Rakh Diya,
Maine Diye Ko Aandhi Ki Marzi Pe Rakh Diya.

आँखों को इंतज़ार की भट्टी पे रख दिया,
मैंने दिये को आँधी की मर्ज़ी पे रख दिया।

Kaheen wo Aa Ke Mita De Na Intezaar Ka Lutf,
Kaheen Qubool Na Ho Jaye Iltija Meri.

कहीं वो आ के मिटा दें न इंतज़ार का लुत्फ़,
कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी।

Mujhe Intezaar Karna Behad Pasand Hai,
Kyuki Ye Waqt Ummeed Se Bhara Hota Hai.

मुझे इंतज़ार करना बेहद पसंद है,
क्योंकि ये वक़्त उम्मीद से भरा होता है।

Gar Rooth Jaye Koi Apna To Jhat Se Mana Lo Use,
Rishte Aksar Bikhar Jate Hain Ik Dooje Ke Intezaar Me.

गर रूठ जाये कोई अपना तो झट से मना लो उसे,
रिश्ते अक्सर बिखर जाते है इक दूजे के इंतज़ार में।

Uski Dard Bhari Aankhon Ne Jis Jagah Kaha Tha Alvida,
Aaj Bhi Vahi Khada Hai Dil Uske Aane Ke Intezaar Mein.

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा,
आज भी वही खड़ा है दिल उसके आने के इंतजार में।

Ye Sard Hawaen Mujhse Kahti Hain Ki Disambar Aa Gaya Hai,
Mujhe Un Bahon Ki Garmahat Ka Intezaar Aaj Bhi Hai.

ये सर्द हवाएं मुझसे कहती है कि दिसम्बर आ गया है,
मुझे उन बाहों की गर्माहट का इंतज़ार आज भी है।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.