banner
May 17, 2021
19 Views
0 0

Intezaar Shayari – Aankhon Ko Intezaar Ka De Kar

Written by
banner

Kishton Mein Khudkushi Kar Rahi Hai Ye Zindagi,
Intezaar Tera…Mujhe Poora Marne Bhi Nahin Deta.

किश्तों में खुदकुशी कर रही है ये जिन्दगी,
इंतज़ार तेरा…मुझे पूरा मरने भी नहीं देता।

Tum Dekhna Yeh Intezaar Rang Layega Zaroor,
Ek Roz Aagan Me Mausam-E-Bahar Aayegi Zaroor.

तुम देखना यह इंतज़ार रंग लायेगा ज़रूर,
एक रोज़ आँगन में मौसम-ए-बहार आएगी ज़रूर।

Ab Kaise Kahu Ki Tujhse Pyar Hai Kitna,
Tu Kya Jaane Tera Intezaar Hai Kitna.

अब कैसे कहूँ कि तुझसे प्यार है कितना,
तू क्या जाने तेरा इंतज़ार है कितना।

Aankhon Ko Intezaar Ka De Kar Hunar Chala Gaya,
Chaha Tha Ik Shakhs Ko Jane Kidhr Chala Gaya.

आँखों को इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था इक शख़्स को जाने किधर चला गया।

Uski Dard Bhari Aankhon Ne Jis Jagah Kaha Tha Alvida,
Aaj Bhi Wahi Khada Hai Dil Uske Aane Ke Intezaar Mein.

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा,
आज भी वहीं खड़ा है दिल उसके आने के इंतज़ार में।

Khatam Hone Ko Hai Dekho Ye Chiragon Ka Safar,
Ab To Aa Jao Ki Jalne Laga Hai Dil Mera

खत्म होने को है देखो ये चिरागों का सफर,
अब तो आ जाओ की जलने लगा है दिल मेरा।

Article Categories:
Intezaar Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.