banner
May 16, 2021
23 Views
0 0

Ilzaam Shayari – Naam Tha Uske Labon Par

Written by
banner

#Bewafa To Wo Khud Thi,
Par Ilzaam Kisi Aur Ko Deti Hai.
Pehle Naam Tha Mera Uske Labon Par,
Ab Wo Naam Kisi Aur Ka Leti Hai.
Kabhi Leti Thi Wada Mujhse Saath Na Chhorne Ka,
Ab Yehi Wada Kisi Aur Se Leti Hai.

#बेवफा तो वो खुद थी,
पर इल्ज़ाम किसी और को देती है.
पहले नाम था मेरा उसके लबों पर,
अब वो नाम किसी और का लेती है
कभी लेती थी वादा मुझसे साथ न छोड़ने का,
अब बही वादा किसी और से लेती है।

Dil-E-Barbaad Ka Main Tujhe Ilzaam Nahi Deta …
Haan Apne Lafzon Mein Tere Zurm Jaroor Likhta Hoon,
Lekin Tera Naam Nahi Leta ।

दिल-ए-बर्बाद का मैं तुझे इल्ज़ाम नहीं देता,
हाँ अपने लफ़्ज़ों में तेरे जुर्म जरूर लिखता हूँ,
लेकिन तेरा नाम नहीं लेता।

Har Baar Hum Par,
Ilzaam Laga Dete Ho Mohhabat Ka,
Kabhi Khud Se Pucha Hai,
Ki Itne Haseen Kyu Ho.

हर बार हम पर,
इल्ज़ाम लगा देते हो मोहब्बत का,
कभी खुद से पूछा है,
की इतने हसीन क्यों हो।

Article Categories:
Ilzaam Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.