banner
May 16, 2021
42 Views
0 0

Ilzaam Shayari – Ilzaam-E-Bewafai

Written by
banner

Tumne Hi Laga Diya Ilzaam-E-Bewafai,
Adalat Bhi Teri Thi Gavaah Bhi Tu Hi Thi.

तूमने ही लगा दिया इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई,
अदालत भी तेरी थी गवाह भी तू ही थी।

Duniya Ko Meri Hakeekat Ka Pata Kuchh Bhi Nahin,
Ilzaam Hazaro Hain Par Khata Kuchh Bhi Nahin.

दुनिया को मेरी हकीकत का पता कुछ भी नहीं,
इल्जाम हजारो हैं पर खता कुछ भी नहीं।

Mujh Par Ilzaam Har Baar Lagana Theek Nahin,
Wafa Khud Se Nahin Hoti Khafa Ham Par Hote Ho.

मुझ पर इल्जाम हर बार लगाना ठीक नहीं,
वफ़ा खुद से नहीं होती खफा हम पर होते हो।

Bewafai Maine Nahin Ki Hai Mujhe Ilzaam Mat Dena,
Mera Suboot Mere Ashq Hain Mera Gawaah Mera Dard Hai .

बेवफाई मैंने नहीं की है मुझे इल्ज़ाम मत देना,
मेरा सुबूत मेरे अश्क हैं मेरा गवाह मेरा दर्द है ।

Khud Na Chhupa Sake Wo Apna Chehra Nakaab Mein,
Bevajah Hamari Aankhon Pe Ilzaam Lag Gaya.

खुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नकाब में,
बेवजह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।

Fhikr Hai Sabko Khud Ko Sahi Saabit Karne Ki,
Jaise Ye Zindgi, Zindagi Nahi, Koi Ilzaam Hai.

फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की,
जैसे ये जिन्दगी, जिन्दगी नही, कोई इल्जाम है।

Article Categories:
Ilzaam Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.