banner
May 16, 2021
41 Views
0 0

Ilzaam Shayari – Iljaam Laga Hai

Written by
banner

Udaas Waqt, Udaas Zindagi, Udaas Mausam,
Kitni Cheejo Pe Iljaam Laga Hai Tere Na Hone Se.

उदास वक्त, उदास जिन्दगी, उदास मौसम,
कितनी चीजो पे इल्जाम लगा है तेरे ना होने से।

Meri Najron Ki Taraf Dekh Jamanen Par Na Ja,
Ishq Maasoom Hai Iljaam Lagaane Par Na Ja.

मेरी नजरों की तरफ देख जमानें पर न जा,
इश्क मासूम है इल्जाम लगाने पर न जा।

Ye Milaavat Ka Daur Hai Janaab Yahaan,
Iljaamaat Lagaye Jaate Hain Taarifon Ke Libas Mein.

ये मिलावट का दौर है जनाब यहाँ,
इल्जामात लगाये जाते हैं तारिफों के लिबास में।

Lafjon Se Itna Aashikana Theek Nahin Hai Zanaab,
Kisi Ke Dil Ke Paar Hue To Iljaam Qatl Ka Lagega.

लफ्जों से इतना आशिकाना ठीक नहीं है ज़नाब,
किसी के दिल के पार हुए तो इल्जाम क़त्ल का लगेगा।

Koi Iljaam Rah Gaya Ho To Wo Bhi De Do,
Pahle Bhi Ham Bure The, Ab Thode Aur Sahi.

कोई इल्जाम रह गया हो तो वो भी दे दो,
पहले भी हम बुरे थे, अब थोड़े और सही।

Chiraag Jalane Ka Saleeka Seekho Saahab
Havaon Pe Ilzaam Lagane Se Kya Hoga.

चिराग जलाने का सलीका सीखो साहब
हवाओं पे इल्ज़ाम लगाने से क्या होगा।

Hans Kar Kabool Kya Kar Li Sajaen Maine,
Zamane Ne Dastoor Hi Bana Liya Har Ilzaam Mujh Par Madhne Ka.

हँस कर कबूल क्या कर ली सजाएँ मैंने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर मढ़ने का।

Article Categories:
Ilzaam Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.