banner
May 16, 2021
19 Views
0 0

Ilzaam Shayari – Har iljaam Ka Hakdaar

Written by
banner

Har Iljaam Ka Hakdaar Wo Hame Bana Jaate Hain,
Har Khata Ki Saja Wo Hame Suna Jaate Hain,
Ham Har Baar Chup Rah Jaate Hain,
Kyuki Wo Apana Hone Ka Hak Jata Jaate Hain.

हर इल्जाम का हकदार वो हमे बना जाते है,
हर खता कि सजा वो हमे सुना जाते है,
हम हर बार चुप रह जाते है,
क्योंकि वो अपना होने का हक जता जाते है।

Tu Kahin Bhi Rah Tere Sar Pe Iljaam To Hai,
Tere Haathon Ki Lakeeron Mein Mera Naam To Hai,
Mujhe Apna Bana Ya Na Bana Teri Marji,
Par Tu Mere Naam Se Badnaam To Hai.

तू कहीं भी रह तेरे सर पे इल्जाम तो है,
तेरे हाथों की लकीरों में मेरा नाम तो है,
मुझे अपना बना या ना बना तेरी मर्जी,
पर तू मेरे नाम से बदनाम तो है।

Teri Aankhon Se Door Jaane Ke Bhi Liye Taiyar To The Ham,
Phir Is Tarah, Nazren Ghumane Ki Jarurat Kya Thi,
Tere Ik Ishare Par Ham Iljaam Bhi Apne Sar Le Lete,
Phir Bevajah, Jhoothe Iljaam Lagane Ki Jarurat Kya Thi.

तेरी आँखों से दूर जाने के भी लिए तैयार तो थे हम,
फिर इस तरह, नज़रें घुमाने की जरूरत क्या थी,
तेरे इक इशारे पर हम इल्जाम भी अपने सर ले लेते,
फिर बेवजह, झूठे इल्जाम लगाने की जरुरत क्या थी।

Article Categories:
Ilzaam Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.