banner
May 16, 2021
16 Views
0 0

Hurt Shayari – Zakhm Shayari Collection

Written by
banner

Diye Hain Zakhm To Marham Ka Takalluf Na Karo,
Kuchh To Rahne Do Meri Zaat Pe Ehsaan Apna.

दिए हैं ज़ख़्म तो #मरहम का तकल्लुफ न करो,
कुछ तो रहने दो मेरी ज़ात पे एहसान अपना।

Namak Tum Haath Mein Lekar, Sitamgar Sochate Kya Ho,
Hajaron Zakhm Hai Dil Par, Jahan Chaaho Chhidak Dalo.

नमक तुम हाथ में लेकर, सितमगर सोचते क्या हो,
हजारों जख्म है दिल पर, जहाँ चाहो छिड़क डालो।

Ehsaan Wo Kisi Ka Rakhte Nahin, Mera Bhi Chuka Diya,
Jitna Khaya Tha Namak Mera, Mere Zakhmon Par Laga Diya.

एहसान वो किसी का रखते नहीं, मेरा भी चुका दिया,
जितना खाया था नमक मेरा, मेरे जख्मों पर लगा दिया।

Naye Zakhm Ke Liye Taiyaar Ho Ja Ai-Dil
Kuchh Log Bahut Pyaar Se Pesh Aa Rahe Hain.

नए जख्म के लिए तैयार हो जा ए-दिल
कुछ लोग बहुत प्यार से पेश आ रहे हैं।

Zindgi Aaj Kal Gujar Rahi Hai Imtihano Ke Daur Se,
Ek Zakhm Bharta Nahi Doosra Aane Ki Jid Karta Hai.

जिन्दगी आज कल गुजर रही है इम्तिहानो के दौर से,
एक जख्म भरता नही दूसरा आने की जिद करता है।

Meri Chahat Ko Meri Halat Ki Tarazoo Mein Na Tol,
Maine Wo Zakhm Bhi Khaye Jo Meri Takdeer Mein Nahin The.

मेरी चाहत को मेरी हालत की तराजू में ना तोल,
मैंने वो #ज़ख्म भी खाये जो मेरी तकदीर में नहीं थे।

Article Categories:
Hurt Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.