banner
May 16, 2021
19 Views
0 0

Hindi Shayari – Rishte Shayari Collection

Written by
banner

Haath Chhoote Bhi To… Rishte Nahin Chhoota Karte,
Waqt Ki Shaakh Se Lamhe Nahin Toota Karte.

हाथ छूटे भी तो… रिश्ते नहीं छूटा करते,
वक़्त की शाख से लम्हे नहीं टूटा करते।

Samajhauton Ki Bheedbhaad Mein Sabse Rishta Toot Gaya,
Itne Ghutne Teke Hamane Aakhir Ghutna Toot Gaya.

समझौतों की भीड़भाड़ में सबसे रिश्ता टूट गया,
इतने घुटने टेके हमने आख़िर घुटना टूट गया।

Mulakaate Jaruri Hain… Agar Rishte Nibhane Hain,
Lagakar Bhool Jane Se To Paudhe Bhi Sookh Jate Hain.

मुलाकाते जरुरी हैं… अगर रिश्ते निभाने हैं,
लगाकर भूल जाने से तो पौधे भी सूख जाते हैं।

Jahan Gunzaishen Hain Vaheen Har Rishta Thahrta Hai,
Aazamaishen Aksar Rishte Tod Deti Hai.

जहां गुंज़ाइशें हैं वहीं हर रिश्ता ठहरता है,
आज़माइशें अक्सर रिश्ते तोड़ देती है।

Sakht Haathon Se Bhi Chhoot Jaate Hain Haath,
Rishte Zor Se Nahin Tameez Se Thame Jaate Hain.

सख़्त हाथों से भी छूट जाते हैं हाथ,
रिश्ते ज़ोर से नहीं तमीज़ से थामे जाते हैं।

Masrooph Rahane Ka Andaaz Tumhe Tanha Na Kar De Dost,
Rishte Phurasat Ke Nahin Tabajjo Ke Mohataaz Hote Hain.

मसरूफ रहने का अंदाज़ तुम्हे तन्हा न कर दे दोस्त,
रिश्ते फुरसत के नहीं तबज्जो के मोहताज़ होते हैं।

Saari Zindagi Rakha Rishton Ka Bharam,
Koi Apne Siva Apna Na Mila.

सारी ज़िन्दगी रखा रिश्तों का भरम,
कोई अपने सिवा अपना ना मिला।

Kuchh Roothe Huye Lamhen Kuchh Toote Hue Rishte,
Har Kadam Par Kaanch Ban Kar Jakhm Dete Hain.

कुछ रूठे हुए लम्हें कुछ टूटे हुए रिश्ते,
हर कदम पर काँच बन कर जख्म देते हैं।

Hosh Ka Pani Chhidko Madhoshi Ki Aankhon Par,
Apno Se Kabhi Na Uljho Gairon Ki Baton Par.

होश का पानी छिड़को मदहोशी की आँखों पर,
अपनों से कभी ना उलझो गैरों की बातों पर।

Tu Dekh Ki Teri Japha Ke Baad
Rishton Ka Kya Haal Hua,
Mohabbat Gayi Aitbaar Gaya
Yoon Har Rishta Hamara Haar Gaya.

तू देख कि तेरी जफा के बाद
रिश्तों का क्या हाल हुआ,
मोहब्बत गयी ऐतबार गया
यूं हर रिश्ता हमारा हार गया।

Bade Anmol Hai Ye Khoon Ke Rishte,
Inko Tu Bekaar Na Kar,
Mera Hissa Bhi Tu Lele Mere Bhai,
Ghar Ke Aangan Mein Deevaar Na Kar.

बड़े अनमोल है ये खून के रिश्ते,
इनको तू बेकार न कर,
मेरा हिस्सा भी तू लेले मेरे भाई,
घर के आंगन में दीवार न कर।

Kuchh Rishte Oopar Wala Banaata Hai,
Kuchh Riste Log Banaate Hain,
Vo Log Bahut Hi Khaas Hote Hain,
Jo Bina Rishte Ke Rishta Nibhate Hain.

कुछ रिश्ते ऊपर वाला बनाता है,
कुछ रिस्ते लोग बनाते हैं,
वो लोग बहुत ही खास होते हैं,
जो बिना रिश्ते के रिश्ता निभाते हैं।

Article Categories:
Hindi Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.