banner
May 16, 2021
50 Views
0 0

Hindi Shayari – Andaaz-E-Guftgu Kya Hai

Written by
banner

Har Ek Baat Pe Kehate Ho Tum Ki Tu Kya Hai,
Tum Hi Kaho Ki Ye Andaaz-E-Guftgu Kya Hai.

Na Shole Mein Ye Karishma Na Vark Mein Ye Adaa,
Koyi Batao Ki Woh Shokhe-Tund-Khoo Kya Hai.

Ye Rashk Hai Ki Woh Hota Hai HumSukhan Tumse,
Vargana Khaufe-Bad-Amojiye-Adoo Kya Hai.

Ragon Mein Daudte Phirane Ke Hum Nahi Qaayal,
Jab Aankh Hi Se Na Tapka To Phir Lahoo Kya Hai.

Chipak Raha Hai Badan Par Lahoo Se Pairaahan,
Hamari Jeb Ko Ab Haajat-E-Rafoo Kya Hai.

Jalaa Hain Jism Jahaan, Dil Bhii Jal Geya Hoga,
Kuredte Ho Jo Ab Raakh, Justajuu Kya Hai.

Bana Hai Shah Ka Musahib, Fire Hai Itrata,
Vargana Shahar Mein Ghalib Ki Aabroo Kya Hai.

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है,
तुम्ही कहो कि ये अंदाजे-गुफ्तगू क्या है।

न शोले में ये करिश्मा न बर्क में ये अदा,
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंद-ख़ू क्या है।

ये रश्क है कि वो होता है हमसुखन तुमसे,
वरगना खौफे-बद-अमोजिए-अदू क्या है।

रगों में दौड़ते रहने के हम नहीं कायल,
जब आँख से न टपका तो फिर लहू क्या है।

चिपक रहा है बदन लहू से पैरहन,
हमारी जेब को अब हाजते-रफू क्या है।

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख, जुस्तजू क्या है।

बना है शह का मुसाहिब, फिरे है इतराता,
वगरना शहर में ग़ालिब कि आबरू क्या है।

Article Categories:
Hindi Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.