banner
May 11, 2021
45 Views
0 0

Gareebi Shayari – Fek Rahe Tum Khana

Written by
banner

Fek Rahe Tum Khana Kyuki, Aaj Roti Thodi Sookhi Hai,
Thodi Ijzat Se Fenkna Saaheb, Meri Beti Kal Se Bhookhi Hai.

फ़ेक रहे तुम खाना क्योंकि, आज रोटी थोड़ी सूखी है,
थोड़ी इज्ज़त से फेंकना साहेब, मेरी बेटी कल से भूखी है।

Jab Bhi Dekhta Hoon… Kisi Gareeb Ko Muskurate Huye,
Yakeenan Khushion Ka Taalluk Daulat Se Nahin Hota.

जब भी देखता हूँ… किसी गरीब को मुस्कुराते हुए,
यकीनन खुशिओं का ताल्लुक दौलत से नहीं होता।

Roj Sham Maidan Me Baith Ye Kahte Huye Ek Bachcha Rota Hai,
Ham Gareeb Hain Isalie Ham Gareeb Ka Koi Dost Nahin Hota Hai.

रोज शाम मैदान में बैठ ये कहते हुए एक बच्चा रोता है,
हम गरीब हैं इसलिए हम गरीब का कोई दोस्त नहीं होता है।

Kataar Bahut Lambi Thi Is Lie Subah Se Raat Ho Gai,
Ye Do Waqt Ki Roti Aaj Phir Mera Adhoora Khvab Ho Gai.

कतार बहुत लम्बी थी इस लिए सुबह से रात हो गयी,
ये दो वक़्त की रोटी आज फिर मेरा अधूरा ख्वाब हो गयी।

Ghar Me Chulha Jal Sake Isalie Kadi Dhoop Me Jalte Dekha Hai,
Haan Maine Gareeb Ki Saans Ko Gubbaro Me Bikte Dekha Hai.

घर में चूल्हा जल सके इसलिए कड़ी धूप में जलते देखा है,
हाँ मैंने गरीब की सांस को गुब्बारों में बिकते देखा है।

Article Categories:
Gareebi Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.