banner
May 11, 2021
18 Views
0 0

Gam Shayari – Gham Ka Fasana Hai

Written by
banner

शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है,
मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना है,
पुकारा है तुझे मंजिल ने लेकिन मैं कहाँ जाऊं,
बिछड़ कर तेरी दुनिया से कहाँ मेरा ठिकाना है।

Shiqayat Kya Karoon Dono Taraf Gham Ka Fasaana Hai,
Mere Aage Mohabbat Hai Tere Aage Zamana Hai,
Pukara Hai Tujhe Manzil Ne Lekin Main Kahan Jaaun,
Bichhad Kar Teri Duniya Se Kahan Mera Thhikana Hai.

शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है,
मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना है।
Shikayat Kya Karoon Dono Taraf Gham Ka Fasaana Hai,
Mere Aage Mohobbat Hai Tere Aage Zamana Hai.

देखकर तुमको अक्सर हमें ये एहसास होता है,
कभी कभी ग़म देने वाला भी कितना ख़ास होता है।
Dekh Kar Tumko Aksar Humein Ye Ehsaas Hota Hai,
Kabhi Kabhi Gham Dene Wala Bhi Kitna Khaas Hota Hai.

कब तक पियें यह ज़हर-ए-ग़म ऐ साकिए-हयात,
घबरा गये हैं अब तेरी दरियादिली से हम।
Kab Tak Piyein Yeh Zeher-e-Gham Ai Saakiye-Hayat,
Ghabra Gaye Hain Ab Teri Dariya-Dili Se Hum.

इलाही उनके हिस्से का भी ग़म मुझको अता कर दे,
कि उन मासूम आँखों में नमी देखी नहीं जाती।
ilaahi Unke Hisse Ka Gham Bhi Mujhko Ataa Kar De,
Ki Unn Masoom Aankhon Mein Nami Dekhi Nahi Jati.

Article Categories:
Gam Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.