banner
May 6, 2021
22 Views
0 0

Gam Bhari Shayari – Zahar-E-Gam Ka Nasha

Written by
banner

Dil Mein Aag Si Hai Chehra Gulaab Jaisa Hai,
Ki Zahar-E-Gam Ka Nasha Bhi Sharab Jaisa Hai,
Ise Kabhi Koi Dekhe Koi Padhe To Sahi,
Dil Aaina Hai To #Chehra Kitab Jaisa Hai.

दिल में आग सी है चेहरा गुलाब जैसा है,
कि ज़हर-ए-ग़म का नशा भी शराब जैसा है,
इसे कभी कोई देखे कोई पढ़े तो सही,
दिल आइना है तो #चेहरा किताब जैसा है।

Bichhad Gaye Hain Jo Unka Saath Kya Mangoo,
Zara Si Umr Baki Hai Is Gam Se Nijaat Kya Maangoo,
Vo Saath Hote To Hoti Zarooraten Bhi Hamen,
Apne Akele Ke Liye Kayanaat Kya Maangoo.

बिछड़ गए हैं जो उनका साथ क्या मांगू,
ज़रा सी उम्र बाकी है इस गम से निजात क्या मांगू,
वो साथ होते तो होती ज़रूरतें भी हमें,
अपने अकेले के लिए कायनात क्या मांगू।

Ishq Ki Raah Mein Gam Ka Andhera Aata Kyon Hai,
Jisko Hamne Chaha Vahi Rulata Kyon Hai,
Vo Meri Kismat Mein Nahin Hai To E Khuda,
Baar-Baar Hamen Usi Se Milata Kyon Hai.

इश्क की राह में ग़म का अँधेरा आता क्यों है,
जिसको हमने चाहा वही रुलाता क्यों है,
वो मेरे किस्मत में नहीं है तो ए खुदा,
बार-बार हमें उसी से मिलाता क्यों है।

Jeene Ka Matlab Maine Pyar Se Pa Liya,
Jiska Bhi Gam Mila Use Apna Bana Liya,
Aap Rokar Bhi Gam Na Halka Kar Sake,
Maine Hansi Ki Aadh Mein Har Gam Chhupa Liya.

जीने का मतलब मैंने प्यार से पा लिया,
जिसका भी ग़म मिला उसे अपना बना लिया,
आप रोकर भी ग़म न हल्का कर सके,
मैंने हँसी की आढ़ में हर ग़म छुपा लिया।

Article Categories:
Gam Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.