banner
May 6, 2021
22 Views
0 0

Gam Bhari Shayari – Gam Ka Andaja

Written by
banner

Kaun Andaja Mere Gam Ka Laga Sakta Hai,
Kaun Sahi Raah Dikha Sakta Hai,
Kinaaron Walon Tum Usaka Dard Kya Jaano,
Doobane Wala Hi Gahrai Bata Sakta Hai.

कौन अंदाजा मेरे गम का लगा सकता है,
कौन सही राह दिखा सकता है,
किनारों वालों तुम उसका दर्द क्या जानो,
डूबने वाला ही गहराई बता सकता है।

Aisa Nahi Ki Tere Baad Ahl-e-Qaram Nahi Mile,
Tujh Sa Nahi Mila Koi Log To Kam Nahi Mile,
Ek Teri Judayi Ke Dard Ki Baat Aur Hai,
Jinko Na Sah Sake Ye Dil Aise To Gam Nahi Mile.

ऐसा नहीं के तेरे बाद अहल-ए-करम नहीं मिले,
तुझ सा नहीं मिला कोई, लोग तो कम नहीं मिले,
एक तेरी जुदाई के दर्द की बात और है,
जिनको न सह सके ये दिल, ऐसे तो गम नहीं मिले।

Hume Koi Gam Nahi Tha Gam-e-Ashiqi Se Pahle,
Na Thi Dushmani Kisi Se Teri Dosti Se Pahle,
Hai Ye Meri BadNashibi Tera Kya Kasoor Isme,
Tere Gam Ne Maar Dala Mujhe Zindagi Se Pahle.

हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले,
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले,
है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कुसूर इसमें,
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।

Article Categories:
Gam Bhari Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.