banner
May 15, 2021
22 Views
0 0

Funny Shayari – Roz Badalti Hamari Mumtaaj

Written by
banner

Tajmahal Kisi Ke Liye Ek Ajooba Hai,
To Kisi Ke Liye Pyar Ka Ehsaas Hai,
Hamare Tumhare Liye To Bakwaas Hai,
Kyun Ki Ki Roz Badalti Humari Mumtaaj Hai.

ताजमहल किसी के लिए एक अजूबा है,
तो किसी के लिए प्यार का एहसास है,
हमारे तुम्हारे लिए तो बकवास है,
क्यूँ की की रोज़ बदलती हमारी मुम्ताज़ है।

Pyar To Humein Bhi Karna Tha,
Par Kuch Khaas Nahi Hua,
Tajmahal To Humein Bhi Banana Tha,
Par Afsoss Ke Loan Pass Nahi Hua.

प्यार तो हमें भी करना था,
पर कुछ ख़ास नहीं हुआ,
ताजमहल तो हमें भी बनना था,
पर अफ़सोस के लोन पास नहीं हुआ।

Fijaon Ke Badalne Ka Intazaar Mat Kar,
Aandhiyon Ke Rukne Ka Intazaar Mat Kar,
Pakad Kisi Ko Aur Faraar Ho Ja,
Papa Ki Pasand Ka Intazaar Mat Kar.

फिजाओं के बदलने का इंतज़ार मत कर,
आँधियों के रुकने का इंतज़ार मत कर,
पकड़ किसी को और फरार हो जा,
पापा की पसंद का इंतज़ार मत कर।

Article Categories:
Funny Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.