banner
May 15, 2021
18 Views
0 0

Funny Shayari – Khushi Ke Lamhe Kis Kadar

Written by
banner

मेरी ख़ुशी के लम्हें किस कदर मुख़्तसर हैं फ़राज़,
अभी मुजरा शुरू ही हुआ था कि छापा पड़ गया।
Meri Khushi Ke Lamhe Kis Kadar Mukhtasar Hain Faraz,
Abhi Mujra Shuru Hi Hua Tha Ke Chhaapa Pad Gaya.

जरा सी देर के लिए चारपाई पे लेटे थे फ़राज़,
मगर किसी उल्लू के पट्ठे ने जनाजा पढ़ दिया।
Jara Si Der Ke Liye Chaarpai Pe Lete The Faraz,
Magar Kisi Ullu Ke Patthe Ne Janaza Parh Diya.

मेरा दोस्त मुझसे यह कह कर दूर चला गया फ़राज़,
कि दोस्ती दूर की अच्छी रोटी तंदूर की अच्छी।
Mera Dost Mujhse Ye Keh Kar Dur Chala Gaya Faraz,
Ke Dosti Dur Ki Achhi Roti Tandoor Ki Achhi.

कभी कभी लेट कर मैं सोचता हूँ फ़राज़,
अगर बैठ के सोचूंगा तो क्या उखाड़ लूँगा।
Kabhi Kabhi Let Kar Main Sochta Hoon Faraz,
Agar Baith Ke Sochunga To Kya Ukhaad Lunga.

अब तो बेगैरतें इस कदर बढ़ गईं हैं फ़राज़,
शेर किसी और का होता है नाम मेरा ठोंक देते हैं।
Ab To Be-Ghairtein Iss Kadar Barh Gayi Hain Faraz,
Sher Kisi Aur Ka Hota Hai Naam Mera Thhok Dete Hain.

इस कब्र में भी हमको सुकून नसीब नहीं फ़राज़,
रोज फ़रिश्ते आ के कहते हैं एक नया शेर हो जाये।
Iss Qabr Mein Bhi Humko Sukoon Naseeb Nahi Faraz,
Roz Farishte Aa Ke Kehte Hain Ek Naya Sher Ho Jaye.

हमारी जिंदगी तो अंधेरों में गुजरती है फ़राज़,
वो और लोग हैं जो इन्वर्टर लगा लेते हैं।
Humari Zindagi To Andheron Mein Gujarti Hai Faraz,
Wo Aur Log Hain Jo Invetrer Laga Lete Hain.

– Faraz

Article Categories:
Funny Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.