banner
May 14, 2021
19 Views
0 0

Friendship Shayari – Dost Ek Jaise Nahin Hote

Written by
banner

Saare Dost Ek Jaise Nahin Hote,
Kuchh Hamare Hokar Bhi Hamare Nahin Hote,
Aapse Dosti Karne Ke Baad Mahsoos Hua,
Kaun Kahta Hai Taare Zameen Par Nahin Hote.

सारे दोस्त एक जैसे नहीं होते,
कुछ हमारे होकर भी हमारे नहीं होते,
आपसे दोस्ती करने के बाद महसूस हुआ,
कौन कहता है ‘तारे ज़मीं पर’ नहीं होते।

Yah Safar Dosti Ka Kabhi Khatm Na Hoga,
Doston Se Pyar Kabhi Kam Na Hoga,
Door Rahkar Bhi Jab Rahegi Mahak Isaki,
Hamen Kabhi Bichhdne Ka Gam Na Hoga.

यह सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा,
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा,
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी,
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा।

Aapki Dosti Pe Naaz Hai Hamen,
Kal Tha Jitna Bharosa Utna Hi Aaj Hai Hamen,
Dost Vo Nahin Jo Khushi Mein Saath De,
Dost Vahi Jo Har Pal Apnepan Ka Ehsaas De.

आपकी दोस्ती पे नाज़ है हमें,
कल था जितना भरोसा उतना ही आज है हमें,
दोस्त वो नहीं जो ख़ुशी में साथ दे,
दोस्त वही जो हर पल अपनेपन का एहसास दे।

Jiye Huye Lamhon Ko Zindagi Kahte Hain,
Jo Dil Ko Sukoon De, Use Khushi Kahte Hain,
Jiske Hone Ki Khushi Se Zindagi Mile,
Aise Rishte Ko Dosti Kahte Hain.

जिए हुए लम्हों को ज़िन्दगी कहते हैं,
जो दिल को सुकून दे, उसे ख़ुशी कहते हैं,
जिसके होने की ख़ुशी से ज़िन्दगी मिले,
ऐसे रिश्ते को दोस्ती कहते हैं।

Article Categories:
Friendship Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.