banner
May 13, 2021
50 Views
0 0

Friendship Dosti Shayari – Unhein Dost Tum Sa Nahi Milta

Written by
banner

Log Kehte Hain Zamin Par Kisi Ko Khuda Nahi Milta,
Shayad Unn Logon Ko Dost Koyi Tum Sa Nahi Milta.
लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी को खुदा नहीं मिलता,
शायद उन लोगों को दोस्त कोई तुम-सा नहीं मिलता।

Kismat Walon Ko Hi Milti Hai Panaah Kisi Ke Dil Mein,
Yun Har Shakhs Ko Toh Jannat Ka Pata Nahi Milta.
किस्मत वालों को ही मिलती है पनाह किसी के दिल में,
यूं हर शख़्स को तो जन्नत का पता नहीं मिलता।

Apne Saaye Se Bhi Zyada Yakeen Hai Mujhe Tum Par,
Andheron Mein Tum To Mil Jaate Ho Saya Nahi Milta.
अपने सायें से भी ज़यादा यकीं है मुझे तुम पर,
अंधेरों में तुम तो मिल जाते हो, साया नहीं मिलता।

Iss Bewafa Zindgi Se Shayad Mujhe Itni Mohabbat Na Hoti,
Agar Iss Zindgi Mein Dost Koyi Tum Jaisa Nahi Milta.
इस बेवफ़ा ज़िन्दगी से शायद मुझे इतनी मोहब्बत ना होती
अगर इस ज़िंदगी में दोस्त कोई तुम जैसा नहीं मिलता।

Article Categories:
Friendship Dosti Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.