banner
May 13, 2021
15 Views
0 0

Friendship Dosti Shayari – Milte Nahi Achchhe Dost

Written by
banner

Khamoshiyon Mein Dheemi Si Aawaaz Hai,
Tanhaiyon Mein Bhi Ek Gehra Raaz Hai.
Milte Nahin Hai Sabko Achchhe Dost Yahan.
Aap Jo Mile Ho Humein Khud Par Naaz Hai.
खामोशियों में धीमी सी आवाज़ है,
तन्हाईयों में भी एक गहरा राज़ है,
मिलते नही हैं सबको अच्छे दोस्त यहाँ,
आप जो मिले हो हमें खुद पर नाज़ है।

Ai Dost Jab Kabhi Bhi Tu Bahut Udaas Hoga,
Humara Khayal Tere Dil Ke Aas-Paas Hoga,
Dil Ki Gaheraiyon Se Jab Bhi Karoge Yaad,
Tumhe Humaare Kareeb Hone Ka Ahsaas Hoga,
ऐ दोस्त जब कभी भी तू बहुत उदास होगा,
मेरा ख्याल तेरे दिल के आस-पास होगा,
दिल की गहराईयों से जब भी करोगे याद,
तुम्हें हमारे करीब होने का एहसास होगा।

Dosti Ka Har Karz Adaa Kaun Karega,
Jab Hum Nahin Rahenge Toh Dosti Kaun Karega,
Ai Khuda Mere Doston Ko Salamat Rakhna,
Varna Mere Jeene Ki Duaa Kaun Karega.
दोस्ती का हर कर्ज़ अदा कौन करेगा,
जब हम नहीं रहेंगे तो दोस्ती कौन करेगा,
ऐ खुदा मेरे दोस्त को सदा सलामत रखना,
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा।

Mehfil Mein Kuchh To Sunaana Padta Hai,
Gham Chhupa Kar Muskurana Padta Hai,
Kabhi Hum Bhi Hua Karte The Aapke Dost,
Aaj Kal Aapko Yaad Dilana Padta Hai.
महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है,
ग़म छुपाकर मुस्कुराना पड़ता है,
कभी हम भी हुआ करते थे आपके दोस्त,
आज कल आपको याद दिलाना पड़ता है।

Article Categories:
Friendship Dosti Shayari
banner

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The maximum upload file size: 32 MB. You can upload: image, audio, video, document, text, other. Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.